LapTab.in

Double Dhamaal Review: टिकट खरीदने से पहले जान लीजिए कैसी है फिल्म । ‘डबल धमाल’ नहीं, ‘हाफ धमाल’ है।

डबल धमाल’ माइन्डलेस कॉमेडी है, जिसमें कहानी नाम की कोई चीज़ है ही नहीं.

संजय दत्त, यानि कबीर, एक जालसाज है, जो इन चारों को उल्लू बनाकर पैसा लेकर भाग निकला है और ऐशोआराम की ज़िन्दगी जी रहा है। अरशद वारसी, जावेद जाफरी, रितेश देशमुख और आशीष चौधरी की कहानी है…

File

डायरेक्टर इंद्रकुमार की ‘डबल धमाल’ के कैरेक्टर, दरअसल कार्टून फिल्मों के कैरेक्टर की तरह हैं, जो एक-दूसरे का पीछा करते हैं, पकड़कर चांटे लगाते हैं, नाक-मुंह सिकोड़ते हैं, आंखें मींचते हैं, फिल्म स्टार्स की मिमिक्री करते हैं, लेकिन फिर भी हंसा नहीं पाते। चारों अपने साथ हुई धोखाधड़ी का बदला लेने कबीर के पास पहुंच जाते हैं, और फिर शुरू होता है एक-दूसरे को बेवकूफ बनाने का सिलसिला।

गोरिल्ले से लड़ते और गोल्फ खेलते कैरेक्टर्स के कुछ अच्छे कॉमिक सीन हैं। ‘पीपली लाइव’, ‘तारे ज़मीं पर’, ‘काइट्स’ और ‘गुज़ारिश’ जैसी ढेरों फिल्मों का खूब अच्छे से मज़ाक उड़ाया गया, हालांकि अंत में फिल्म फिर बोरिंग हो गई। ‘डबल धमाल’ सीक्वेल है, करीब चार साल पहले रिलीज़ हुई ‘धमाल’ का, लेकिन इसकी लचर कॉमेडी देखकर कहना पड़ेगा, इसका नाम ‘हाफ धमाल’ होना चाहिए था…

फ़ाइल

सेक्रेटरी के रोल में कंगना से भी बेहतर काम कराया जा सकता था। लड़की के भेष में आशीष चौधरी ज़रा भी नहीं जमते। ‘डबल धमाल’ माइन्डलेस कॉमेडी है, जिसमें कहानी नाम की कोई चीज़ है ही नहीं। मल्लिका शेरावत का स्पेशलाइज़ेशन कुछ और ही तरह की फिल्मों में हैं, इसीलिए एक-दो डांस नंबर करवाकर उन्हें साइडलाइन कर देना अखरता नहीं है, लेकिन अरशद वारसी और जावेद जाफरी को वेस्ट करने पर तरस आता है।

Add comment

Recent posts

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.

ADVERTISE